बेघर

Photo by Pixabay on Pexels.com

इनका कोई पक्का ठिकाना नहीं होता है। महानगरों में मेहनत मज़दूरी कर अपने परिवार का पोषण करने वाले ये मेहनतकश हर रोज़ बेघर होते हैं।