समर्पण

तेरे अरमानों का कत्ल करता रहा,
तेरे समर्पण से खुद को मर्द माना। मर्दानगी का खोखला एहसास।