बरसता आसमान

हिंदी कविता बरसता आसमान - Photo by Aldiyar Seitkassymov on Pexels.com

आज आसमान खुल कर बरस रहा है। मुंबई के महलों और झोपड़ों में कोई भेदभाव नहीं करता। ज़रूरी हो कर भी आसमान का ये बरसता पानी छत की तलाश में भटकती माँ के लिए मुसीबत बन जाता है।